Image credit- social media

भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली खुद को क्रिकेट के तीनों फ़ॉर्मेट में तीन साल तक कड़े परिश्रम के साथ खेलने के लिए तैयार कर रहे हैं. जिसके बाद वह अपने काम के बोझ को थोड़ा कम कर सकते हैं. विराट कोहली को दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में गिना जाता है.

अब तक कई रिकॉर्ड अपने नाम कर चुके विराट कोहली से जब पूछा गया कि क्या भारत में 2021 के विश्वकप टी-20 के बाद से कम से कम एक प्रारूप को छोड़ने के बारे में फिर से विचार कर रहे हैं?

इस पर उन्होंने कहा कि मेरी सोच बड़ी तस्वीर वाली है. जहां मैं खुद को अब से तीन साल की कड़ी मेहनत के लिए तैयार कर रहा हूं. उन्होंने ये स्वीकार कि थकान और काम के बोझ का प्रबंधन ऐसे मु’द्दे हैं, जिन पर हर फोरम पर बातचीत होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि करीब आठ साल से मैं हर साल 300 दिन खेल रहा हूं, जिसमें यात्रा और अभ्यास सत्र भी शामिल हैं.

उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं है कि खिलाड़ी हर वक्त इसके बारे में नहीं सोचते. हम व्यक्तिगत रूप से कई ब्रेक लेते हैं भले ही मैचों के कार्यक्रम के बीच हमें इसकी गुंजाइश नहीं लगती हो. यह बात उन लोगों के लिए खासतौर पर लागू है जो हर तरह के प्रारूप में खेलते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here