कोरोना संकट की वजह से देश विदेश में फंसे तमाम लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. इस दौरान सरकार की ओर से दी जाने वाली राहत ऊंट के मुंह में जीरे के समान है. विदेशों में फसे लोगों को लाने के लिए वंदे भारत अभियान चलाया जा रहा है. इस अभियान के तहत उन्हें विशेष विमानों से भारत की राजधानी दिल्ली सहित अलग अलग राज्यों में लाया जा रहा है.

विदेश से आने वालों पर भी मुसीबतें कम नहीं है. उन्हें सरकार द्वारा तय किराया देना होगा इसके अलावा जिस होटल में वो क्वारंटाइन रहेंगे उसका भी खर्च उन्हें उठाना होगा. इसके बाद अब एक और नई जानकारी सामने आई है. विदेश से दिल्ली एयरपोर्ट पर उतरने के बाद नोएडा गाजियाबाद आने के लिए आपको अच्छी खासी रकम खर्च करनी होगी.

उत्तर प्रदेश परिवहन विभाग दिल्ली से नोएड़ा गाजियाबाद या 250 किलोमीटर तक यूपी में कहीं पर जाने के लिए जो टैक्सी उपलब्ध करा रहा है उसका किराया न्यनतम 10 हजार है. अगर एसयूव टैक्सी लेते हैं तो 12 हजार खर्च करना होगा. अगर आप रोडवेज बस से सफर करना चाहते हैं तो 100 किलोमीटर की नॉन एसी यात्रा के लिए 1000 और एसी यात्रा के लिए 1320 रूपये देने होंगे.

यूपी रोडवेज के प्रबंधक निदेशक राज शेखर ने नोएडा-गाजियाबाद रीजन के प्रबंधकों को पत्र भेजा है. उसमें कहा गया है कि वंदे भारत अभियान के तहत विदेश से आने वालों के लिए 250 किलोमीटर तक टैक्सी का किराया 10 हजार होगा. इसके अतिरिक्त चलने पर प्रति किलोमीटर 40 रूपये की दर से भुगतान करना होगा.

टैक्सी में ड्राइवर के अलावा सिर्फ दो लोगों के बैठने की इजाजत होगी. इतने महंगे किराए को लेकर लोगों में नाराजगी भी दिखाई दे रही है. उनका कहना है कि इस मुश्किल समय में भी सरकारी तंत्र आम जनता को लूटने पर तुला हुआ है जो कि दुर्भाग्यपूर्ण है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here