कानपुर के बिकरू गांव की घटना के मुख्य आरोपी विकास दुबे को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया. विकास को कल बेहद नाटकीय ढंग से उज्जैन के महाकाल मंदिर से मध्यप्रदेश पुलिस ने गिरफ्तार किया था. विकास दुबे की गिरफ्तारी से लेकर एनकाउंटर पर अब सवाल उठ रहे हैं.

अब यूपी एसटीएफ ने प्रेस नोट जारी कर बताया कि किस तरह पूरी घटना हुई. एसटीएफ की ओर से जारी प्रेसनोट के अनुसार विकास दुबे को सरकारी वाहन से लाया जा रहा था. जैसे ही गाड़ी कानपुर के सचेंडी थानाक्षेत्र हाईवे पर कन्हैया लाल अस्पताल के पास पहुंची अचानक गाय-भैंसों का झुंड भागता हुआ आ गया.

image credit-social media

लंबी यात्रा से थके चालक ने बचने के लिए अचानक गाड़ी मोड़ी जिससे वाहन अनियंत्रित होकर पलट गया. इस हादसे के बाद विकास दुबे ने मौका देखकर पुलिकर्मी की पिस्टल छीनकर कच्चे रास्ते की ओर भागने लगा. इसी बीच पीछे से आ रही दूसरी गाड़ी में सवार पुलिसकर्मियों ने उसे रोकने की कोशिश की.

इसके बाद हुई मुठभेड़ में उसे मार गिराया गया. इस दौरान कई पुलिसकर्मी भी घायल हो गए. इन सबको अस्पताल में भर्ती कराया गया है. जहां पर उनका इलाज चल रहा है. इससे पहले एसएसपी दिनेश कुमार पी ने कहा था कि कुछ लोग पुलिस की गाड़ी का पीछा कर रहे थे, इस दौरान गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त हो गई.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here