शिवसेना के बदले तेवर जहां भारतीय जनता पार्टी की बेचैनी बढ़ा रहे हैं तो वहीँ कांग्रेस को राहत दे रहे हैं. शिवसेना प्रमुख और महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने सोमवार को जेएनयू में हिं’सा की तुलना की 26 नवंबर को मुंबई में हुए ह’मले से की. जिसका समर्थन कांग्रेस की और से भी किया गया है.

भाजपा के नेता पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस से नाराज है. उनका मानना है कि महाराष्ट्र में हार उनके रवैये की वजह से हुई है. वहीँ मौजूदा सरकार के बारे में उनका कहना है कि उद्धव ठाकरे, पवार का रिमोट कंट्रोल बन गए हैं. भले ही वह मुख्यमंत्री हों लेकिन सरकार शरद पवार चला रहे हैं.

इससे जाहिर है कि बीजेपी को पवार और ठाकरे की जोड़ी रास नहीं आ रही है. पूर्व सीएम देवेन्द्र फडणवीस भी तंज कसने का कोई मौका नहीं छोड़ते हैं. भाजपा नेताओं का कहना है कि उद्धव ठाकरे को मुख्यमंत्री की कुर्सी मिल गयी, लेकिन उनकी पार्टी को क्या मिला? काफी कुछ एनसीपी के पास है. एनसीपी से बचा वह मलाईदार विभाग कांग्रेस के मंत्रियों के पास है.

हालांकि पूर्णरूप से कांग्रेस भी खुश नहीं है. कांग्रेस के कुछ नेताओं का मानना है कि राज्य में विभाग के बंटवारे में पार्टी को सही प्रतिनिधित्व नहीं मिला.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here