image credit-social media

वैसे तो यूपी एसटीएफ के द्वारा 10 जुलाई को गैंगस्टर विकास दुबे का एनकाउंटर कर दिया गया था. बिकरु गांव में 8 पुलिसकर्मियों की जान के दुश्मन ने आखिरकार उज्जैन में 8 जुलाई को समर्पण कर दिया था. इसके बाद यूपी पुलिस उज्जैन से वापस ला रही थी, इस दौरान ही उसने भागने का प्रयास किया और पुलिस ने एनकाउंटर कर दिया.

अब विकास दुबे की मौत के 2 महीने होने को है अब गांव वालों को वो वहां घूमता नजर आता है, कई गांव वालों ने उसे देखने तक का दावा किया है, इसके साथ ही 8 पुलिसकर्मियों ने भी इसकी शिकायत की है जिसके बाद गांव के लोगों में खौफ है. इसी कारण बिकरु गांव में रात 9 बजे के बाद सन्नाटा छा जाता है. लोग अपने घरों से बाहर नहीं निकलते.

जब उनसे इसका कारण पूछा गया तो उन लोगों ने साफ तौर पर कहा कि विकास दुबे के भूत ने उन लोगों को घर में बंद होने को कहा है इसके चलते वो लोग इस तरह के कदम को उठाने के लिए बाध्य हुए हैं. गौरतलब है कि विकास दुबे ने 8 पुलिसकर्मियों को मौत के घाटच उतार दिया था इसके बाद वो गांव से फरार हो गया था, 10 जुलाई को उसका एनकाउंटर कर दिया गया, लेकिन 15 सितंबर से वो गांव के लोगों को नजर आने लगा जिसके बाद गांव के लोगों में दहशत का माहौल है.

IMAGE CREDIT-SOCIAL MEDIA

कई ग्रामीणों ने दावा किया कि उन्होंने रात में विकास दुबे को गां में घूमते हुए देखा. पहले उन्हें लगा कि ये भ्रम है लेकिन फिर जब कई लोगों ने इस बात की पुष्टि की. बिकरु गांव में ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों ने भी गांव से काम करना बंद कर दिया है. उन्हें भी वहां विकास दुबे दिखाई दिया, इसके साथ उन लोगों ने गोलियां चलने की आवाज को सुना.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here