समय का पहिया घुमाएगी योगी सरकार, लौटेगी 1857 के दौर के मंदिर और मेलों की रौनक

0

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार उस दौर को वापस लाने की तैयारी कर रही है, जो कहीं खो चुका है. सरकार ने पुरातत्व विभाग से 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के दौरान राज्य में मौजूद मंदिरों की एक सूची तैयार करने के लिए कहा है. प्रत्येक जिले के विरासत की सूची बनाई जाएगी.

संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री नीलकंठ तिवारी ने संस्कृति विभाग के अधिकारियों से दो महीने में हर एक जिले की विरासत का दस्तावेजीकरण करने के लिए कहा है. पारम्परिक मेलों, साथ ही स्वतंत्रता संग्राम और स्वतंत्रता सेनानियों से जुड़ी जगहों की भी सूची बनाने के लिए कहा गया.

सूत्रों की माने तो राज्य सरकार उस दौर के मंदिर और पारम्परिक मेलों को पुनर्जीवित करने की ओर देख रही है, जो उस क्षेत्र की पहचान थे. संस्कृत विभाग के एक अधिकारी ने बताया, ‘स्थलों के खोए हुए गौरव को फिर से लौटाने और ऐसे कार्यक्रम आयोजित करने की योजना है, जो लोगों का ध्यान अपनी ओर खींचें.’

अधिकारी ने कहा कि अगर हम उदहारण के तौर पर देखें, बड़ा मंगल उत्सव लखनऊ में आयोजित होता है और इस आयोजन में सरकारी सहायता प्रदान कर हम पर्यटकों को आकर्षित कर सकते हैं.

उन्होंने बताया कि जिला स्तर पर अधिकारीयों को ऐसे मंदिरों के बारे में जानकारी देने के लिए कहा है. हम उन्हें पुनर्निर्मित करेंगे और रौनक लौटाएंगे.’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here