समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की ओर से भगवान परशुराम की प्रतिमा लगवाने के एलान के बाद प्रदेश की सियासत फिर गर्मा गई है. भाजपा ने पलटवार करते हुए अखिलेश और मुलायम सिंह को ब्राह्मण विरोधी करार दे दिया.

उत्तर प्रदेश की कन्नौज लोकसभा सीट से भाजपा सांसद सुब्रत पाठक ने सपा मुखियाओं पर निशाना साधते हुए कहा कि मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव ब्राह्मण विरोधी हैं. उन्होंने कहा कि जय श्रीराम का विरोध करने वाले अखिलेश यादव भगवान परशुराम के जरिए ब्राह्मणों का वोट हासिल कर सत्ता में वापसी के सपने देख रहे हैं.

image credit-social media

पाठक ने कहा कि बेहतर होगा कि अखिलेश यादव भगवान और महापुरूषों को जातियों में न बांटें. उन्होंने कहा कि भगवान राम को क्षत्रिय, कृण को यादव और परशुराम को ब्राह्मण बताकर अखिलेश यादव समाज की एकता को तोड़ने का काम कर रहे हैं.

भाजपा सांसद ने कहा कि अखिलेश सरकार में ब्राह्मणों के साथ भेदभाव होता था. उन्होंने कहा कि जिस समाजवादी विचारधारा का जन्म ही ब्राह्मणों के विरोध से हुआ हो वो आज ब्राह्मणों के वोट पाने के लिए चाल रहे हैं.

बता दें कि सुब्रत पाठक ने अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव को 2019 लोकसभा चुनाव में शिकस्त दी थी. इससे पहले डिंपल ही कन्नौज से सांसद थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here