अगर आप स्मार्ट टीवी का इस्तेमाल कर रहे हैं तो संभल जाएं, वरना आपकी बन सकती है पो’र्न फिल्म

0

तकनीक के इस युग में हम चारो ओर से इलेक्ट्रानिक गैजेट से घिर सा गए हैं. शायद ही कोई ऐसा पल बीतता हो जब हम इनसे दूर रहकर सुकून हासिल कर सकें. हालत ये हो गई है कि बिना इसके न तो हमें सुकून मिलता है और न ही नींद आती है. ये कहना गलत नहीं होगा कि हम इलेक्ट्रानिक गैजेट के पूरी तरह से गुलाम बन चुके हैं.

आजकल सामान्य टीवी की जगह स्मार्ट टीवी ने ले ली है. इस टीवी को हम इंटरनेट और मोबाइल से कनेक्ट कर सकते हैं. इन सब के चलते हमारी जिंदगी आसान होती जा रही है. हम एक पल में ही अपनी मनचाही चीजें अपने टीवी स्क्रीन पर देख सकते हैं. लेकिन हर सिक्के के दो पहलू होते हैं और हमें दूसरे पहलू को कतई नजरअंदाज नहीं करना चाहिए.

ऐसा ही हुआ सूरत में रहने वाले एक युवक के साथ. हैकर्स ने उसके स्मार्ट टीवी को हैक करके उसे निजी पलों को रिकार्ड कर लिया और फिर उसे वेबसाइट पर अपलोड कर दिया. इत्तेफाक से वो श्ख्स भी इस तरह की फिल्में देखने का शौकीन था. एक दिन जब वो अपनी टीवी पर इस तरह की फिल्में देख रहा था तो उसके होश उड़ गए.

उसने देखा कि उसकी और उसकी पत्नी के निजी पलों की फिल्म एक वेबसाइट पर चल रही है. ये सब देखकर फौरन उसने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई. काफी जांच पड़ताल के बाद भी एक्सपर्ट ये नहीं समझ पा रहे थे कि आखिर ये पल रिकार्ड कैसे हुए.

बहुत खोजबीन करने के बाद जब उनका ध्यान स्मार्ट टीवी की और फिर नए सिरे से पड़ताल की गई तो ये बात सामने आई कि हैकर्स ने उसके टीवी के वेबकैम को हैक करके उनका निजी वीडियो रिकार्ड कर उसे वेबसाइट पर अपलोड कर दिया.

बरतें ये सावधानी

1. अगर आपके घर में भी स्मार्ट टीवी है तो इसे मोबाइल से ऑन/ऑफ करने की जह स्क्रीन पर जाकर स्लाइडर की मदद से पावर ऑफ करें. इसके लिए टीवी वाले एप के सेटिंग में जाकर इसे रीसेट करना होगा. मतलब, टीवी का कंट्रोल स्क्रीन पर रहने दें, मोबाइल से ऑपरेट करने पर स्क्रीन तो बंद हो जाती है, लेकिन डेटा लिक का खतरा बना रहता है.

2. सभी स्मार्ट टीवी में ऑटोमेटिक कंटेट रिकॉगनिशन (ACR) का ऑप्शन होता है. इसकी मदद से कंपनी वाले यह जानने की कोशिश करते हैं कि आप किस कंटेट को ज्यादा पसंद करते हैं. सेटिंग में जाकर इस ऑप्शन को डिसेबल कर दें. इससे आपकी निजता बनी रहेगी.

3. इसके अलावा स्मार्ट टीवी वॉयस रिकॉगनिशन सर्विस, प्राइवेसी नोटिस समेत कई ऑप्शन होते हैं. सेटिंग के सपोर्ट वाले ऑप्शन में जाकर ऐसे सभी ऑप्शन को डिसेबल करना है. इसके अलावा इंटरनेट बेस्ड एडवरटाइजिंग फीचर को भी ऑफ करना है. ये कुछ बेसिक फीचर डिसेबल कर आप हैकिंग का शिकार होने से बच सकते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here