शिवराज के साले संजय सिंह को दी कांग्रेस ने टिकट, इस विधानसभा से ठोंक रहे है उम्मीदवारी

0

पांच दिन पहले भाजपा का दामन छोड़ कर कांग्रेस में आए शिवराज के साले को कांग्रेस ने वारासिवनी विधानसभा क्षेत्र से टिकट दी है। भाजपा से आने के बाद उन्होंने भाजपा को वंशवाद को पालने वाली पार्टी बताया था, इसके साथ ही उन्होंने कहा था कि भाजपा कामदार को निकाल रही है, जबकि नामदारों को टिकट बाँट रही है.

कांग्रेस नेता कमलनाथ की मौजूदगी में कांग्रेस में शामिल हुए संजय सिंह ने कांग्रेस को  भाजपा से बेहतर बताते हुए ज्वाइन किया था. चौथी  सूची में 29 उम्मीदवारों के नाम हैं, इसी सूची में  भाजपा छोड़कर आये शिवराज सिंह चौहान के  साले को भी टिकट दे दिया है.

संजय सिंह बीते 3 नवंबर को भाजपा को छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए थे। उन्होंने शामिल होते ही कहा था कि भाजपा नामदारों को टिकट बांट रही है जबकि कामदारों को निकाला जा रहा है। भाजपा पर वंशवाद का भी आरोप लगाया था।

संजय सिंह ने आगे बढ़ते हुए कहा था कि मध्यप्रदेश को अब शिवराज नहीं कमलनाथ की जरुरत है, शिवराज ने बहुत समय बिता लिया है अब परिवर्तन का समय है, इस बार जनता भी परिवर्तन चाहती है. कहा कि बीजेपी में पिता के बाद पुत्र और पुत्रियों के मैदान में उतारा जा रहा है। ये वंशवाद की राजनीति चल रही है, जबकि बीजेपी इस राजनीति से दूर रहती हुई नजर आई है.

कांग्रेसी नेता कमललाथ ने संजय सिंह के कांग्रेस के साथ जुड़ते हुए कहा था  कि वह जिस निष्ठा के साथ भाजपा के साथ काम कर रहे थे, उसी निष्ठा के साथ कांग्रेस के साथ काम करते हुए नजर आएंगे.

मध्यप्रदेश में 230 विधानसभा सीटें है जिसमें से कांग्रेस ने 213 सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है. इन विधानसभा सीटों के लिए 28 नवंबर को वोट डाले जायेंगे, जबकि  11 दिसंबर को वोटों की गिनती होगी. वोटों की गिनती के बाद पता चलेगा कि कौन मध्यप्रदेश का मुख्यमंत्री बनेगा.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here