पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी आज 50 वर्ष के हो चुके हैं. कोरोना वायरस महामारी और चीन सीमा पर मौजूदा हालात की वजह से राहुल गांधी ने अपना जन्मदिन न मनाने का फैसला लिया लिया है. पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी और मौजूदा कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के बेटे राहुल गांधी का जन्म 19 जून 1970 को नई दिल्ली में हुआ था.

उन्होंने अपनी पढ़ाई अमेरिका और इंग्लैण्ड में पूरी की. साल 2004 से भारतीय राजनीति में वह सक्रीय हैं. इस दौरान उन्होंने अपने राजनीतिक जीवन में उतार-चढ़ाव देखे.

परिवार में सबसे ज्यादा पढ़े-लिखे

राहुल गांधी के परिवार में हर किसी की शिक्षा अच्छी हुई, लेकिन राहुल अपने परिवार में सबसे ज्यादा पढ़े-लिखे हैं. उन्होंने कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी के ट्रिनिटी कॉलेज से डेवेलपमेंट इकोनॉमिक्स में एम.फिल किया है. पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने कुछ सालों तक एक प्रबंधक कंपनी में काम किया. जिसके बाद वह वापस भारत लौट आए.

राजनीति में शुरुआत 

पढ़ाई पूरी करने के बाद वापस भारत लौटने पर 2004 से अब तक भारतीय राजनीति में राहुल गांधी सक्रिय हैं. साल 2004 के चुनाव में वह अमेठी से मैदान में उतरे और जीत हासिल की. तब उन्होंने यहाँ से करीब तीन लाख वोटों से जीत दर्ज की थी.

राहुल ने कार्यकर्ताओं से लगातार बैठकें कीं. गांव-गांव जाकर लोगों से संपर्क करना राहुल गांधी की राजनीति का हिस्सा रहा है. साल 2006 में हैदराबाद में कांग्रेस का एक सम्मलेन चल रहा था. जिसमें हजारों युवा कांग्रेसी कार्यकर्ता व नेता चाहते थे कि वह पार्टी में बड़ी भूमिका संभालें. तब राहुल ने कोई बड़ा पद लेने से इनकार कर दिया था.

साल 2017 में जब पार्टी मुश्किल दौर में थी तब राहुल गांधी को अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी सौंपी गयी थी. उनके नेतृत्व में पार्टी ने मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ का चुनाव जीता. लेकिन साल 2019 के लोकसभा चुनाव में पार्टी ने कुछ खास प्रदर्शन नहीं किया. यहां तक कि राहुल गांधी अमेठी से अपनी सीट नहीं बचा पाए. हालांकि वायनाड से उन्होंने बड़े अंतर से जीत दर्ज की. इस हार के बाद उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष पद छोड़ दिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here