राम मंदिर मुद्दाः बिहार के राज्यपाल ने सुप्रीम कोर्ट पर साधा निशाना, कही ये बात…

0


वरिष्ठ भाजपा नेता और बिहार के राज्यपाल लाल जी टंडन ने राम मंदिर मामले की सुनवाई बगले साल तक टालने को लेकर सुप्रीम कोर्ट पर निशाना साधा है. लाल जी टंडन ने कहा कि अगर कोर्ट चाहता तो इतने लंबे समय से चले आ रहे इस मामले को एक ही सुनवाई में खत्म कर सकता था. यह जमीन के बंटवारे को लेकर मामला था जिस पर आसानी से फैसला दिया जा सकता था.

उन्होंने कहा कि हमारा देश दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है और यहां की न्याय व्यवस्था भी बहुत मजबूत है, फिर भी यह मामला 150 साल से लंबित है. राम मंदिर मुद्दा देश के 100 करोड़ लोगों की आस्था से जुड़ा मसला है मगर न्यायालय की प्राथमिकता में यह नहीं है. हालांकि उनका कहना है कि वो न्यायपालिका पर कोई टिप्पणी नहीं कर रहे हैं बस अपने विचार रख रहे हैं.

टंडन यहीं नहीं रूके बल्कि उन्होंने लखनऊ का नाम लक्ष्मणपुर किए जाने की पैरवी भी की. उनका कहना है कि लखनऊ को लक्ष्मण ने ही बसाया था. उन्होंने इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयाग रखे जाने का भी समर्थन किया और कहा कि प्रयागराज एक प्राकृतिक नाम है.

बता दें कि जब से सुप्रीम कोर्ट ने राम मंदिर मामले की सुनवाई को अगले साल तक के लिए टाला है तब से ही साधू-संतों, भाजपा के नेताओं और मंदिर आंदोलन से जुड़ी संस्थाओं की ओर से लगातार सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के खिलाफ असंतोष देखने को मिल रहा है. आए दिन कोई न कोई बयानबाजी करता ही रहता है. हाल ही में आरएसएस की ओर से भैया जी जोशी ने कहा था कि जरूरत पड़ने पर 1992 जैसा आंदोलन फिर किया जा सकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here