….किसी के बाप का हिंदोस्तान थोड़ी है जैसे शेर कहने वाले मशहूर शायर राहत इंदौरी ने नागरिकता संशोधन कानून को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जोरदार निशाना साधा है.

सीएए, एनआरसी के खिलाफ हो रहे एक प्रदर्शन के दौरान राहत इंदौरी ने कहा कि मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से ये गुजारिश करना चाहूंगा कि अगर उन्होंने संविधान नहीं पढ़ा है तो किसी पढ़े लिखे आदमी को बुला लें और उससे संविधान पढ़वाकर समझने की कोशिश करें कि उसमें क्या लिखा है और क्या नहीं.

सीएए, एनपीआर और एनआरसी के खिलाफ देशभर के अलग अलग इलाकों में हो रहे प्रदर्शनों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि ये सिर्फ मुसलमानों का मसला नहीं है बल्कि इसमें सभी को शामिल होना चाहिए.

सभी का खू’न शामिल है यहां की मिट्टी में किसी के बाप का हिंदोस्तान थोड़ी है वाले शेर पर उन्होंने कहा कि ये बहुत ही अफसोसनाक बात है कि मीडिया और कुछ लोगों ने इसे मुसलमानों से जोड़ दिया.

उन्होंने कहा कि इस शेर का ताल्लुक हर उस भारतीय से है जो मुल्क के लिए कुर्बानी देने का जज्बा रखता है. पाकिस्तान के शायर फैज अहमद फैज की नज्म हम भी देखेंगे का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि कुछ लोगों ने इस नज्म का मतलब ही बदल दिया. मुझे इस पर बहुत अचंभा नहीं हुआ क्योंकि कम पढ़े लिखे लोग न तो हिंदी जानते हैं और न ही उर्दू.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here