कोरोना संकट के चलते लॉकडाउन की वजह से देश के गरीब और मध्यम वर्गीय परिवारों को बहुत कठिनाइयों को सामना करना पड़ा है. अब जब सबकुछ दोबारा सामान्य होने की शुरूआत हो गई है तो सबसे बड़ा संकट ये है कि वो गरीब अपना काम कैसे शुरू करे जिसके पास अब खाने तक का ठिकाना नहीं है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गरीबों की इसी परेशानी को समझते हुए आज ऐसे गरीबों के लिए 10 हजार रूपये लोन देने का एलान कर दिया जो रेहड़ी-पटरी और ठेले पर सामान बेचकर अपना जीवनयापन करते हैं. मोदी कैबिनेट की बैठक में ये प्रस्ताव पारित किया गया.

पीएम मोदी ने कहा कि देश में पहली बार सरकार ने रेहड़ी-पटरी वालों और ठेले पर सामान बेचने वालों के रोजगार के लिए लोन की व्यवस्था की है. ‘पीएम स्वनिधि’ योजना से 50 लाख से अधिक लोगों को लाभ मिलेगा. इससे ये लोग कोरोना संकट के समय अपने कारोबार को नए सिरे से खड़ा कर आत्मनिर्भर भारत अभियान को गति देंगे.

उन्होंने कहा कि आज कैबिनेट ने कई महत्वपूर्ण और ऐतिहासिक फैसले लिए, इनसे हमारे अन्नदाताओं, मजदूरों और श्रमिकों के जीवन में बड़े सकारात्मक बदलाव आएंगे. सरकार के इन निर्णयों से किसानों, रेहड़ी-पटरी वालों और एमएसएमई को जबरदस्त लाभ पहुंचने वाला है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here