ईरान से तेल आयात जारी रखने में भारत को मिलेगा ये दोहरा फायदा

0


ईरान से तेल खरीदने पर अमेरिकी की ओर से दी गई छूट का दोहरा फायदा भारत को मिलने के रास्ते बन रहे हैं. अमेरिका ने ऐसी व्यवस्था की है कि ईरान को उसकी मुद्रा में कोई भी देश भुगतान नहीं करेगा. इसका फायदा ये होगा कि ईरान को तेल निर्यात के लिए मिलने वाले सारे पैसों को भारत से आयात होने वाली चीजों पर ही खर्च करना पड़ेगा. इससे फायदा ये होगा कि ईरान को भारत से पहले से अधिक वस्तुओं को खरीदना पड़ेगा.

इससे भारत का निर्यात बढ़ेगा.बता दें कि भारत सहित आठ देशों को आगामी 6 माह के लिए ईरान से तेल आयात करने की सशर्त छूट अमेरिका ने दी है. भारत और ईरान के रिश्ते पहले से ही काफी मजबूत रहे हैं. अमेरिकी धमकियों को नजरअंदाज करके भारत ने ईरान से तेल खरीदारी को जारी रखने का फैसला किया था.

भारत सहित अन्य मुल्कों के रूख को देखते हुए अमेरिका ने अपने कदम पीछे खींचते हुए आठ देशों को ईरान से तेल खरीदने की छूट देने का ऐलान कर दिया. भारत ईरान से अपने रिश्तों को खराब नहीं करना चाहता क्योंकि अपने दुश्मन देश पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए भारत को ईरान से रिश्ते रखना बेहद जरूरी है.

इसके अलावा भारत ईरान में अपनी महत्वपूर्ण योजना चाहबहार बंदरगाह को भी बना रहा है. इस बंदरगाह के बनने के बाद भारत को बहुत लाभ मिलने की उम्मीद है. भारत की कूटनीति है कि ईरान और अमेरिका दोनों देशों से अपने संबंध को बनाए रखा जाए, वो इसी कूटनीति पर आगे बढ़ रहा है.

अमेरिका ईरान के बीच रिश्तों में तनातनी कोई नई बात नहीं है, अमेरिका ने ईरान के तेल आयात को शून्य पर लाने की धमकी दी है. ईरान ने भी अमेरिका की इस धमकी का मुॅहतोड़ जवाब देते हुए उसे देख लेने की बात कही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here