उत्तर प्रदेश के हाथरस में एक दलित समुदाय की बेटी के साथ हुई जघन्य घटना पर पूरा देश छुब्ध है. बिहार महिला प्रदेश कांग्रेस की पूर्व उपाध्यक्ष मंजूबाला पाठक ने कहा कि वो किसी दलित की नही बल्कि मेरी बेटी थी. उन्होंने कहा कि आज मेरा कलेजा छलनी हो गया है. उस बेटी के दर्द को मैं महसूस कर रही हूं.

मंजूबाला पाठक ने कहा कि मैं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से पूछना चाहती हूं कि क्या उन दरिंदो के साथ भी पुलिस न्याय करेगी? क्या दलितों के साथ इस तरह पेश आएगी उनकी सरकार? क्या गरीब को जीने का हक़ नही है उत्तर प्रदेश में?

मंजूबाला पाठक बिहार में महिलाओं के खिलाफ अपराध का मुद्दा उठाती रही हैं. उन्होंने पूरे बिहार के लोगो से आवाहन किया कि आप सब उस बच्ची के लिए न्याय की मांग कीजिए. बेटियों की सुरक्षा का मुद्दा उन्होंने बिहार सरकार के सामने भी उठाया.

उन्होंने नीतीश राज में हुए घरेलू हिंसा के मामलों को भी सत्ता के सामने रखने की पेशकश की. उन्होंने नीतीश कुमार से उनके साशन में हुए महिलाओं पर अत्याचार पर भी जवाब मांगा.

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश के हाथरस में एक बेटी के साथ दरिंदगी की गई थी, इस दौरान उसे गंभीर चोट आई थी. उसको हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया था जहां वो अपने जिंदगी की जंग हार गई. इस घटना से पूरे देश मे रोष व्याप्त है. विपक्ष योगी पर कानून व्यवस्था को लेकर लापरवाही का आरोप लगा रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here