image credit-getty

महाराष्ट्र में शिवसेना, कांग्रेस, और एनसीपी की सरकार बनाने की कोशिशें आकार नहीं ले पा रही है. महाराष्ट्र में जब ये तय हो गया था कि बीजेपी और शिवसेना सरकार नहीं बनाने वाले है. उसके बाद से एनसीपी और कांग्रेस नेताओं के बीच कई दौर की मीटिंग हो चुकी है. शिवसेना इस बारे में बयान दे चुकी है कि सरकार बनाने का पूरा ब्लूप्रिंट लगभग तैयार है.

मीडिया की खबरों के मुताबिक सरकार की रुपरेखा तय कर ली गई है, सीएम और डिप्टी सीएम और मंत्री पदों के बंटवारे पर भी बात पक्की हो चुकी है.  लेकिन इतने दावों के बावजूद अभी भी महाराष्ट्र में सरकार बनाने का रास्ता दिखाई नहीं दे रहा है. अब सवाल ही उठता है कि आखिर ऐसा कौन सा मुद्दा है जिस पर तीनों पार्टियों के बीच राय नहीं बन पा रही है.

image credit-getty

शनिवार को ये खबर आ रही थी कि कांग्रेस, शिवसेना और एनसीपी नेता शाम साढ़े 4 बजे राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात करने वाले हैं. हालांकि इस मुलाकात का एजेंडा बारिश से प्रभावित किसानों की समस्याओं पर बात करने का था. इस मीटिंग के बहाने ही तीनों पार्टियां शक्ति प्रर्दशन करने वाली है.

इसमें एक संदेश देने की कोशिश की जाएगी कि बीजेपी के खिलाफ कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना एक मंच पर आ चुकी है.लेकिन दोपहर के बाद अचानक खबर आई कि राज्यपाल के साथ साझा मुलाकात रदद् कर दी गई है, हालांकि इसके पीछे का कारण नहीं पता चल सका.

इसके बाद पता चला कि शरद पवार और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के बीच बैठक होनी है  लेकिन इस बैठक को भी ऐन वक्त पर रद्द कर दिया गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here