महाराष्ट्र के लोग सोए थे राष्ट्रपति शासन में, और उठे भाजपा के शासन मे

0
IMAGE CREDIT-GETTY

पिछले एक महीने से सरकार की राह देख रहे बीजेपी, कांग्रेस, शिवसेना और एनसीपी के बीच बने रहे राजनीतिक समीकरण का आखिरकार शुक्रवार को अंत हो गया था, जिसमें कहा गया था कि शिवसेना ताजपोशी करने जा रही है.  लेकिन शनिवार सुबह सारे राजनीतिक समीकरण बदल गए और बीजेपी ने सूबे में सरकार बना ली. अजीत पवार ने एनसीपी को तोड़कर बीजेपी के साथ सरकार बना ली. जिसके बाद महाराष्ट्र की राजनीति में तह’लका मच गया है.

जहां एक और शुक्रवार रात तक शिवसेना की सरकार बन रही थी. उद्धव ठाकरे को आज सीएम पद के रुप में राज्यपाल के सामने सरकार बनाने का मसौदा रखना था, इधर बीजेपी ने अजीत पवार के साथ मिलकर रात के अंधेरे में एनसीपी में डा’का ड़ाल दिया और सुबह होते-होते सरकार बना ली.

IMAGE CREDIT-GETTY

हालांकि सूत्रों के मुताबिक एनसीपी के 22 विधायकों का बीजेपी को समर्थन प्राप्त है. जबकि शिवसेना के भी कुछ विधाय़कों के शामिल होने की बात कही जा रही है. गौरतलब है कि महाराष्ट्र में हुए विधानसभा चुनाव में बीजेपी को 105, शिवसेना को 56, एनसीपी को 54 और कांग्रेस को 44 सीटों पर जीत मिली है.

288 विधायकों वाली विधानसभा में 145 विधायकों का समर्थन जरुरी होता है. ऐसे में अगर एनसीपी के 22 विधायकों को जोड़ दिया जाए तो बीजेपी के साथ मिलाकर संख्या 127 हो जाएगी. हालांकि कुछ निर्दलीय विधायकों का भी समर्थन बीजेपी को मिल चुका है. इसके साथ ही शिवसेना के कुछ विधायकों के समर्थन की बात कही जा रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here