महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे को राज्यपाल द्धारा विधान परिषद सदस्य के रुप में मनोनीत किए जाने के मसले पर राजनीति गर्मा गई है. विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फड़नवीस ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के मामले में घसीटा है. शिवसेना नेता संजय राउत ने समानांतर सत्ता के संचालन का आरोप लगाते हुए राज्यपाल पर पलटवार किया.

सोमवार को पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र ने कहा कि राज्यपाल पर उद्धव ठाकरे को एमएलसी बनाए जाने के कारण ये दबाव बनाया जा रहा है. दरअसल पिछले सप्ताह ही शिवसेना सांसद संजय राउत ने पीएम मोदी से वीडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान आरोप लगाते हुए ये कहा था कि राज्यपाल कोश्यारी मुख्यमंत्री के समानांतर सत्ता चला रहे हैं.

उनकी इस बात का समर्थन एनसीपी के नेता और इस समय सूबे में डिप्टी सीएम की कुर्सी संभाले शरद पवार ने भी किया था. अब फड़नवीस ने कहा कि ये तो राज्यपाल को ही तय करना है कि उद्धव ठाकरे को एमएलसी मनोनीत करें या नहीं. राज्यपाल कानूनविदों से निर्णय लेकर इस पर फैसला करेंगे.

लेकिन यदि उद्धव एमएलसी बनते हैं तो उन्हें मेरी तरफ से अभी से ही शुभकामनाएं.. उधर दूसरी ओर माना जा रहा है कि उद्धव ठाकरे का एमएलसी बनना इतना आसान काम नहीं हैं.

फड़नवीस ने कहा कि इससे पहले भी राज्य सरकार ने एनसीपी के दो नेताओं को एमएलसी मनोनीत करने का प्रस्ताव भेजा था जिसे राज्यपाल की ओर से ये कहते हुए लौटा दिया गया था कि दोनों ही सदस्यों के रिक्त पद का कार्यकाल एक साल से कम है इसको देखते हुए अभी नियुक्ति नहीं की जा सकती.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here