सेनाध्यक्ष बिपिन रावत ने कहा कि आगामी युद्ध कुछ इस तरह का होगा जैसा कि…

0

भविष्य में अगर भारत का युद्ध हुआ तो वह ऐसा होगा जैसा कि आज तक के इतिहास में भारत ने नहीं लड़ा, हमें बदलना होगा क्योंकि युद्ध की प्रकृति बदल रही है, आधुनिक संरचनाओं को शामिल करने के लिए नई संरचनाएं बनाई जानी चाहिए, यह सब बदलाव एक रात में तो संभव नहीं हैं मगर ये होंगे जरूर यह बातें उन्होंने एक अंग्रेजी अखबार को दिए साक्षात्कार के दौरान कही.

सेनाध्यक्ष ने कहा कि भारतीय सेना आने वाले पॉच साल के अंदर एक लाख सैनिकों की छटनी करेगी इससे सेना को पैसा बचाने में मदद मिलेगी जिसका इस्तेमाल सेना अपनी क्षमताओं में विस्तार के लिए कर सकेगी. भारतीय सेना अपने एक जवान पर 6-8 लाख व अधिकारी पर 20-22 लाख रूपये सालाना खर्च करतीहै.

उन्होंने कहा कि ममूथ ड्रिल जोकि चार व्यापक अध्ययनों पर आधारित है वह हमारे जवानों की दिशा बदल देगी. इससे उन्हें भविष्य के युद्ध के लिए पूरी तरह से तैयार किया जा सकेगा. सेना मुख्यालय के पुनर्गठन की फाइल को जल्द ही मंजूरी दिलाने के लिए रक्षा मंत्रालय के पास भेजा जाएगा. पूर्व सेनाध्यक्ष दीपक कपूर ने कहा था कि आधुनिक सेना बड़े आकार के गठनों से दूर हो रही है क्योंकि भविष्य के युद्ध अलग तरह से लड़े जाएंगे हमें पुनर्गठन
के मामलों की विस्तार से जॉच करनी चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here