पूर्व भारतीय दिग्गज सलामी बल्लेबाज वीरेन्द्र सहवाग अपनी जबरदस्त बल्लेबाजी के लिए जाने गए. कोई भी प्रारूप हो सहवाग अपने ही अंदाज में खेलते नजर आते. वीरेन्द्र सहवाग और गौतम गंभीर की सलामी जोड़ी ने भारत को कई मैचों जीत दिलाई. वहीं अब गंभीर ने इस राज से पर्दा उठाया है कि सहवाग मैच की पहली गेंद क्यों नहीं खेलते थे.

एक टीवी शो में बात करते हुए गौतम गंभीर ने कहा कि सहवाग ने भारतीय क्रिकेट का चेहरा बदलने का काम किया है. क्रिकेट के हर प्रारूप में सहवाग ने टॉप आर्डर में बल्लेबाजी करते हुए जो प्रभाव पैदा किया है उसकी कोई तुलना नहीं की जा सकती.

सहवाग की तारीफ करते हुए गंभीर कहते हैं कि एक बल्लेबाज के रूप में कोई भी सहवाग की मानसिकता की नक़ल नहीं कर सकता. मैच की पहली गेंद खेलने पर बात करते हुए गंभीर ने कहा कि सहवाग हमेशा कहते थे कि पहली गेंद वह नहीं खेलेंगे क्योंकि वह सलामी बल्लेबाज नहीं हैं.

गंभीर ने बताया कि वीरेन्द्र सहवाग ने करियर के दौरान कभी भी खुद को सलामी बल्लेबाज नहीं माना. उन्होंने कहा कि सहवाग कहते थे कि वह एक सलामी बल्लेबाज नहीं हैं. इसलिए जो भी ओपनर है उसे पहली गेंद खेलनी चाहिए. वह अपने आप को सलामी बल्लेबाज नहीं मानते थे हालांकि उनके नाम दो तिहरे शतक थे, मुझे नहीं पता उन्होंने कितने शतक जमाए.

गंभीर ने कहा कि शायद सुनील गावस्कर के बाद वह सबसे कामयाब भारतीय सलामी बल्लेबाज हैं लेकिन उन्होंने खुद को कभी भी ओपनर नहीं माना. तो हमेशा मुझे ही पहली गेंद खेलनी पड़ती थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here