एक साल पहले दुनियाभर में फैली कोरोना महामारी ने करोड़ों लोगों को भले ही आर्थिक तंगी में धकेल दिया हो लेकिन दवा कंपनियों ने मोटा मुनाफा कमाया है. कोरोना वैक्सीन बनाने वाली कंपनियां अब अरबों कमा रही हैं. सबसे ज्यादा कमाई करने वाली कंपनियों की लिस्ट में अमेरिकी कंपनी फाइजर और मॉर्डना सबसे आगे हैं.

फाइजर बायोएनटेक ने पिछले साल 9.6 अरब डॉलर का मुनाफा कमाया, जिसके वर्ष 2021 में बढ़कर 15 अरब डॉलर रहने का अनुमान है. इसके वर्ष 2022 में 8.6 अरब डॉलर और वर्ष 2023 में 1.95 अरब डॉलर कमाने का अनुमान है.

मॉर्डना ने बताया है कि वर्ष 2021 में टीका बिक्री मुनाफा 19 अरब डॉलर मूल्य के बराबर रहने की उम्मीद है, वर्ष में 2022 में 12.2 अरब डॉलर, वर्ष 2023 में 11.4 अरब डॉलर होने का अनुमान है.

ब्रिटिश कंपनी एस्ट्राजेनेका और जॉनसन एंड जॉनसन ने महामारी समाप्त होने तक कोई मुनाफा न कमाने की नीति अपनाई है. इसके बावजूद ये दोनों कंपनियां फायदे में हैं.

दुनियाभर की टीका उत्पादक कंपनियों के शेयर में उछाल आया है. जिसका फायदा शेयर धारकों को भी मिल रहा है. फाइजर का शेयर करीब दो फीसदी तो बायोएनटेक के शेयर में 156 फीसदी बढ़ोतरी हुई है.

अगर नियमित अंतराल के बाद कोरोना टीके की खुराक दोहराने की जरूरत पड़ी तो कंपनियां और भी अधिक कमाई कर सकती हैं. मॉर्डना के शेयरों में एक साल के दौरान 300 फीसदी से ज्यादा का उछाल आया है. इस कंपनी का महज 9 फीसदी शेयर रखने वाले इसके मुख्य कार्यकारी अधिकारी अब पांच अरब डॉलर के मालिक हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here