अब इस भाजपा विधायक ने कहा- पार्टी के खिलाफ मुहं खोलने पर, लगाम लगाने के लिए सरकारी एजेंसिया छोड़ी जाती है

0

गोवा के भाजपा विधायक फ्रांसिस डिसूजा ने मीडिया से मुखातिब होते हुए बोला- अगर हम पार्टी के खिलाफ बोलने की हिम्मत भी करते है, तो हमें सरकारी एजेंसिया ( सीबीआई और ईडी के द्वारा परेशान किया जाता है, इन एजेंसियों द्वारा हमारे ठिकानों पर छापेमारी की जाती है. सरकार के खिलाफ बोलने पर हमें भी राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम के तहत हमें गिरफ्तार किया जा सकता है.

अभी तक इन जांच एजेंसियों पर आरोप लगते रहे है कि ये एजेंसिया सरकार की कठपुतली बनकर काम कर रही है. विरोधी पक्ष के अनुसार ये एजेंसिया सरकार के साथ काम करते हुए विपक्षी नेताओं को परेशान करने का काम करती है. भाजपा के इस विधायक के आरोप के बाद सत्ता पक्ष में खलबली मची हुई है.

उन्होंने कहा कि पूर्व खेल मंत्री रमेश तावडकर के ठिकानों पर आयकर विभाग की छापेमारी हुई है और पूर्व मुख्यमंत्री लक्ष्मीकान्त पारसेकर के पास आयकर विभाग की नोटिस आई है.

डिसूजा यहीं पर नहीं रुके उन्होंने कहा – इस प्रकार की कार्रवाई पूरे देश में हो रही है लेकिन मैं नहीं जानता की इस प्रकार की कार्रवाई कौन करा रहा है? इस प्रकार की कार्रवाई से कोई भी सरकार के खिलाफ बोलना नहीं चाहता. बोलने पर उसके ऊपर लगाम लगाने के लिए सारे इंतजाम है.

डिसूजा ने कहा इससे पहले जब मैं पार्सेकर सरकार के खिलाफ बोला था, उस समय मेरे ऊपर आईटी विभाग ने छापेमारी की थी. अभी हाल में ही डिसूजा इलाज के लिए अमेरिका गए हुए थे. सेहत का हवाला देते हुए मुझे मंत्री पद से हटा दिया गया, इसके बाद से मुझे भविष्य को लेकर चिंता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here