बकरीद के महीने का चांद नजर आने के बाद ये तय हो गया है कि इस बार 01 अगस्त को बकरीद का त्यौहार मनाया जाएगा. इस दिन मुस्लिम समाज बकरे, भेड़ आदि जानवरों की कुर्बानी देता है. ये परंपरा सदियों से चलती आ रही है. इस बार बकरीद कोरोनाकाल में पड़ रही है.

गाजियाबाद के लोनी से बीजेपी विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने कोरोना के बहाने बकरीद को लेकर बेहद ही विवादित बयान दिया है. उन्होंने चेतावनी भरे लहजे में कहा है कि इस बार कुर्बानी न की जाए अन्यथा कार्रवाई होगी. नंदकिशोर ने कहा कि कुर्बानी अपनी किसी प्यारी चीज की ही दी जाती है, इस बार कुर्बानी न दें, अगर देनी ही है तो अपने बच्चों की दे दें.

उन्होंने कहा कि इस बार किसी भी हाल में मांस और मदिरा का सेवन नहीं होने दिया जाएगा क्योंकि ये त्यौहार सावन के महीने में पड़ रहा है.

बीजेपी विधायक ने कहा कि जब पता है कि मांस से कोरोना फैल सकता है और शराब से इम्युनिटी सिस्टम कमजोर होता है तो इन दोनों चीजों से हमें पहरेज करना चाहिए. उन्होंने कहा कि किसी जानवर की कुर्बानी देकर उसे खाना उचित नहीं है.

नंदकिशोर गुर्जर ने कहा कि सनातन धर्म में भी बलि देने की परंपरा थी मगर अब उसकी जगह नारियल तोड़ा जाता है. उन्होंने कहा कि मैं शासन और प्रशासन से इस बारे में बात करूंगा कि बकरीद के मौके पर कुर्बानी को रोका जाए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here