उत्तर प्रदेश में साल 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर अभी से ही बयानबाजियां तेज होने लगी है. विपक्षी दल तमाम मुद्दों को लेकर सरकार को घेरने में जुट गए हैं. इसी बीच आज सपा मुखिया अखिलेश यादव ने 2022 को लेकर बड़ा बयान देते हुए कहा कि ये चुनाव को सामान्य चुनाव नहीं है, ये भविष्य का भी चुनाव है. सन् 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव चुनौती और सम्भावना दोनों हैं.

अखिलेश यादव ने कहा कि आज देश संकट के दौर से गुजर रहा है. भाजपा सरकार में बोलने की आजादी छीनी जा रही है. लोकतांत्रिक संस्थाओं को कमजोर किया जा रहा है. सत्ता चंद हाथों में केन्द्रित की जा रही है. किसान को उसके खेतों के स्वामित्व से वंचित कर चंद पूंजीघरानों के हाथों में लीज पर सौंपने का षडयंत्र चल रहा है.

उन्होंने कहा कि भाजपा मुख्य मुद्दों से भटकाना जानती है. गरीबों के हितों का उसे ख्याल नहीं. गांवों की उपेक्षा हो रही है. बुनकरों पर मंहगी बिजली की मार पड़ रही है. नोटबंदी-जीएसटी ने व्यापार धंधा चौपट कर दिया है.

अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा विकास में दिलचस्पी नहीं रखती है. समाजवादी सरकार में ही सबके विकास के काम हुए हैं. भाजपा राज में शिक्षा-स्वास्थ्य के क्षेत्र में बदहाली है. वस्तुतः भाजपा नेतृत्व के पास कोई विजन नहीं है. भाजपा की राज्य सरकार में तो घोटाले ही घोटाले हैं. मुख्यमंत्री जी के बड़बोलेपन के बावजूद अपराधी बेखटके अपराधों को अंजाम दे रहे हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here