समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सूबे की भाजपा सरकार पर तंज कसते हुए कहा है कि कोरोना महामारी के हालात बेकाबू होने से नो टेस्ट नो केस का रास्ता अख्तियार कर लिया गया है. ऐसा लग रहा है प्रदेश में सरकार नाम की कोई संस्था है ही नहीं.

अखिलेश यादव ने कहा कि राज्य सरकार बीमारी से निबटने में असहाय और अक्षम साबित हो रही है. प्रदेश में कोविड मरीज 44,563 हैं और 1981 मौतें हो चुकी हैं. वर्तमान मुख्यमंत्री जी का निष्फल कार्यकाल इसी बात में बीत रहा है कि वे समाजवादी सरकार के कार्यकाल में हुए कामों का ही फीता काटते रहे. भाजपा सरकारें केन्द्र की हों या राज्य की दावों के सहारे ही अपने दिन काट रही हैं.

उन्होंने कहा कि प्रतापगढ़ के पट्टी में भाजपा का दमनकारी चेहरा सामने आया है. कोरोना काल में जरूरतमंदों की मदद करने वाले आम नागरिकों और समाजवादियों के खिलाफ मंत्री के इशारे पर फायरिंग का झूठा केस दर्ज किया गया है. जबकि सोशल डिस्टैंसिंग की धज्जियां उड़ाने वाले भाजपा नेताओं पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही है.

उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार प्रशासन चलाने में पूर्णतया विफल नज़र आ रही है. कोरोना जैसी बीमारी से निबटने की क्षमता भी वह खो चुकी है. प्रशासनिक व्यवस्थाएं पंगु है. सरकार बयानों से ही बीमारियों का इलाज करने का चमत्कार कर रही है. काम के मामले में लगता ही नहीं कि उत्तर प्रदेश में सरकार नाम की कोई संस्था सक्रिय है अथवा नहीं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here