पुलिस के कामकाज को लेकर अक्सर आम लोगों की ये शिकायत रहती है कि पुलिस उनकी बात नहीं सुनती और मुकदमा नहीं दर्ज करती. समाज के अधिकतर लोगों की नजर में पुलिस की छवि बहुत बेहतर नहीं है. मगर ऐसा नहीं है कि सभी पुलिसवाले खराब होते हैं. पुलिस को अच्छा काम करने के लिए सम्मान भी मिलता है.

आगरा रेंज के आईजी ए सतीश गणेश को ऐसा ही एक पुरस्कार मिला जिसे वो शायद ही भूल पाएं. ये पुरस्कार उन्हें एक आम शख्स ने डाक द्वारा भेजा. रोजाना आए पत्रों की जांच के दौरान उन्हें एक लिफाफा मिला जिसपर लिखा हुआ था प्रशंसा प्रमाण पत्र. उस लिफाफे को खोलने पर उसमें पांच सौ रूपये का चेक रखा हुआ था.

ये शख्स हैं ऐटा के रहने वाले विजय पाल सिंह. विजय पाल ने आई जी सतीश गणेश की तारीफ करते हुए लिखा कि अपने चोरी हुए लैपटॉप की शिकायत दर्ज कराने मथुरा हाइवे पुलिस स्टेशन पहुंचे थे. वहां उनके साथ बहुत अच्छा व्यवहार करते हुए उनकी शिकायत को दर्ज कराया गया.

विजय पाल ने कहा कि अक्सर पुलिस कर्मी आम इंसानों की शिकायत दर्ज नहीं करते, उनसे ठीक से बात तक नहीं करते. लेकिन मैं आईजी सतीश गणेश के काम करने के तरीके से काफी प्रसन्न हूं. इसलिए ये ईनाम भेज रहा हूं.

आईजी सतीश ने बताया कि यह एक सर्वश्रेष्‍ठ प्रशस्ति पत्र है जो एक पुलिस अधिकारी हासिल कर सकता है. इसकी कीमत सोने से भी ज्‍यादा है. 23 साल के पुलिस करियर में मैंने कई मेडल, अवार्ड और प्रशस्ति पत्र हासिल किए हैं लेकिन यह सर्वोत्‍तम है.

ये इस प्रकार के आम जनता के छोटे-छोटे संकेत मुझे उनकी सेवा के लिए बिना थके काम करने की ऊर्जा देते हैं. आईजी ने कहा कि यह पत्र और चेक को वे संभाल कर रखेंगे और आने वाली पीढ़ी को दिखाएंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here