68,500 शिक्षक भर्ती पर सीबीआई आंच, हाईकोर्ट ने कहा – हम आँखे मूंद कर नहीं बैठ सकते

0

योगी सरकार में 68,500 शिक्षक भर्ती सीबीआई जांच के घेरे में आ गयी है, भर्ती प्रक्रिया से लेकर परिणाम तक जो धांधली सामने आई, उसके बाद इलाहाबाद हाईकोर्ट की पीठ ने कहा- हम आँखे मूँद कर बैठ नहीं सकते, अभ्यर्थियों के साथ विश्वाशघात हुआ, मजबूर होकर इस भर्ती को सीबीआई को देना पड़ रहा है.

सीबीआई जाँच को 6 महीने में पूरी कर रिपोर्ट सौपने के लिए कहा है. कोर्ट ने कहा सही जवाबों में शून्य अंक देने, उत्तरपुस्तिकाओं का बार कोड होने के बावजूद बदलना, अफसरों को चहेतों को लाभ पहुचाने, ये अभ्यर्थियों के मूल अधिकारों का हनन है, इसके साथ हम समझौता नहीं कर सकते.

बता दे कि इस परीक्षा में 1 लाख 7 हजार अभ्यर्थी बैठे थे. परिणाम घोषित करने के बाद से ही आई इसमें ब्यापक गड़बड़ियाँ सरकार के लिए परेशानी का सबब बनी हुई थी, कभी उत्तरपुस्तिकाओं में कम नंबर, कभी कॉपी बदलने का मामला सामने आया तो कभी मेधा के साथ खिडवाड करने की बात सामने आई.

कोर्ट ने सोनिका देवी समेत 41 याचिकाओं पर जवाब देते हुए कहा इस प्रकार की धांधली छात्रों के साथ अन्य है, जस्टिस इरसाद अली की पीठ ने कहा इस तरह से अभ्यर्थियों की अभिव्यक्ति की स्वतंत्रतता, समानता पर ठेस पहुची है. सोनिका देवी की जान बूझकर नियुक्ति नहीं की गयी.

इसकी अगली सुनवाई 26 नवम्बर को होगी. उधर लखनऊ के इलाहबाद की एक पीठ ने अखिलेश सरकार में हुई 12,640 नियुक्तियों को भी रद्द कर दिया है.

आपको बता दे कि सरकार पर शुरुआत से ही भर्ती में गड़बड़झाले की बातें सामने आई थी. कापियों के जलाने से लेकर, कॉपी बदलने से लेकर बहुत सी गड़बड़ियाँ सामने आई थी, जिसके बाद से ही कयास लगाये जा रहे थे कि इस भर्ती में कोर्ट दखल दे सकता है, ठीक उसी प्रकार की स्थितियां सामने आ गयी है. अब इसकी अगली सुनवाई 26 नवंबर को होगी इसमें देखने को मिलेगा की आगे की प्रक्रिया किस प्रकार चलती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here